कन्नौज का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से…ऐतिहासिक युद्ध-10 कन्नौज का युद्ध चौसा युद्ध जीतने के एक साल बाद  फिर दोनों  कन्नौज के मैदान में आमने-सामने हुए| बिलग्राम या कन्नौज का युद्ध 17 मई, 1540 ई. को लड़ा गया । शेरशाह ने 5 भागों में सेना को विभक्‍त करके मुगलों पर आक्रमण कर …

Read More »

हल्दीघाटी का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से… ऐतिहासिक युद्ध -15 हल्दीघाटी का युद्ध हल्दीघाटी का युद्ध अकबर और महाराणा प्रताप के बीच हुआ। अकबर ने मेवाड़ को पूर्णरूप से जीतने के लिए अप्रैल, 1576 ई. में आमेर के राजा मानसिंह एवं आसफ ख़ाँ के नेतृत्व में मुग़ल सेना को आक्रमण के लिए …

Read More »

बक्सर का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से… ऐतिहासिक युद्ध-16 बक्सर का युद्ध  भारतीय इतिहास के उन युद्ध में बक्सर युद्ध का भी विशेष स्थान है, जिसके कारन देश में शासन काल ही बदल गया। इस युद्ध के बाद भारत देश का इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ा, साथ ही देश में पूरी …

Read More »

चौसा का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से…  ऐतिहासिक युद्ध-09 चौसा का युद्ध हुमायूँ  सत्ता में आने के बाद अफगानो की गतिविधियों पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया। जिसके कारण अफगान शक्तियों में बढ़ोतरी हुई और यही शक्तिया एक दिन इसके लिए आपति लेकर आई, इन शक्तियों का नियंत्रण शेर खां कर रहा था …

Read More »

प्लासी का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से… ऐतिहासिक युद्ध-16 प्लासी का युद्ध प्लासी का युद्ध 23 जून 1757 को मुर्शिदाबाद के दक्षिण में 22 मील दूर नदिया जिले में गंगा नदी के किनारे ‘प्लासी’ नामक स्थान में हुआ था। इस युद्ध में एक ओर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना थी तो …

Read More »

पानीपत का तृतीय युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से… ऐतिहासिक युद्ध -14 पानीपत का तृतीय युद्ध   पानीपत की तीसरा युद्ध  14 जनवरी, 1761 को मराठा सेनापति सदाशिवराव भाऊ और अफगान सेनानायक अहमदशाह अब्दाली के बीच हुई। लड़ाई भारतीय इतिहास की बेहद महत्वपूर्ण और क्रांतिकारी बदलावों वाली साबित हुई। अहमद शाह अब्दाली ने मराठों …

Read More »

पानीपत का प्रथम युद्ध (1526)

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से… ऐतिहासिक युद्ध -6    पानीपत का प्रथम युद्ध (1526) पानीपत की पहली लड़ाई 21 अप्रैल, 1526 को पानीपत के मैदान में दिल्ली के सुल्तान इब्राहीम लोदी और मुगल शासक बाबर के बीच हुई। युद्ध में इब्राहीम लोदी और बाबर के मध्य हुए भयानक संघर्ष में …

Read More »

चंदेरी का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से…  ऐतिहासिक युद्ध- 08  चंदेरी का युद्ध खानव युद्ध के पश्चात् राजपूतो की शक्ति पूरी तरह  नष्ट नही हुई थी, इसलिए  1528 ई. में बाबर ने ‘चंदेरी के युद्ध’ शेष राजपूतो के खिलाफ लड़ा । इस  युद्ध में राजपूतो के सेना का नेतृत्त्व  मेदिनी राय ने किया , इस  युद्ध के पश्चात् मेदिनी राय ने …

Read More »

घाघरा का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से…   ऐतिहासिक युद्ध-09 घाघरा का युद्ध राजपूतो के खिलाफ खंडवा और चंदेरी का युद्ध जीतने  के बाद बाबर ने अफगान शासको के खिलाफ रुख किया,  वह बिहार और बंगाल के अफगान शासको के सयुक्त सेना से पटना से उपरी घाघरा और गंगा के संगम के किनारे घाघरा के तट पर मिला। बाबर को तोपखाना अफगानों …

Read More »

मच्छीवारा और सरहिन्द का युद्ध

Share this on WhatsAppइतिहास के पन्नो से…  ऐतिहासिक युद्ध -11 मच्छीवारा और  सरहिन्द का युद्ध * मच्छीवारा का युद्ध :-  हुमायूँ लगभग 14 वर्ष तक क़ाबुल में रहा। हुमायूँ ने पुनः 1545 ई. में कंधार एवं काबुल पर अधिकार कर लिया। शेरशाह के पुत्र इस्लामशाह की मुत्यु के बाद हुमायूँ को हिन्दुस्तान पर …

Read More »